Header

November 27, 2021

सांस्कृतिक, विरासत एवं सामाजिक समरसता का प्रतीक बस्तर दशहरा उत्सव

नई दिल्ली/बस्तर-जगदलपुर/अश्वनी कुमार कौशिक/ओम प्रकाश सिंह, पाटजात्रा पूजा विधान से प्रारंभ होकर दिनांक 19 अक्टूबर, 2021 को मावली माता विदाई पूजा विधान तक लगातार 75 दिन तक विभिन्न पूजा विधान की श्रृंखला के साथ मनाये जाने वाला बस्तर दशहरा का सबसे आकर्षक रथ परिक्रमा दिनांक 08.10.2021 से प्रारंभ हुआ है।

बस्तर दशहरा उत्सव में संभाग के अलग-अलग परगना एवं गांव से हजारों की संख्या में मांझी, चालकी, पुजारी, पटेल एवं ग्रामीण शिरकत करते हैं। इसी प्रकार बस्तर क्षेत्र की सांस्कृतिक, विरासत एवं सामाजिक समरसता की प्रतीक के रूप में बनाये जाने वाला बस्तर दशहरा उत्सव को देखने लिये देश-विदेश से श्रद्धालु एवं पर्यटक जगदलपुर शहर पहुंचते हैं।

सुन्दरराज पी. पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज एवं जितेन्द्र मीणा, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, जिला बस्तर द्वारा शहर भ्रमण करके बस्तर दशहरा बन्दोबस्त प्लॉन का अवलोकन कर बस्तर दशहरा उत्सव को व्यवस्थित एवं सुरक्षित तरीके से सम्पन्न कराये जाने हेतु सभी संबंधितों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया।

इस दौरान पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, जिला बस्तर द्वारा जगदलपुर सिटी कन्ट्रोल रूम में स्थापित किये गये सीसीटीव्ही मॉनिटरिंग सेन्टर का भी भ्रमण कर शहर के विभिन्न चौक/चौराहों में स्थापित किये गये सीसीटीव्ही कैमरा के माध्यम से कन्ट्रोल रूम में प्राप्त हो रही दृश्य का भी अवलोकन किया गया। उल्लेखनीय है कि जगदलपुर शहर के यातायात नियंत्रण, कानून व्यवस्था एवं आपराधिक गतिविधियों के ऊपर रोकथाम हेतु शहर में पुलिस एवं जिला प्रशासन द्वारा स्थापित किये गये 161 से भी अधिक सीसीटीव्ही कैमरों का लाभ मिल रहा है।

पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज द्वारा बताया गया कि प्राकृतिक सौंदर्यता, अनौखिक उत्सव एवं प्रधान संस्कृति के प्रसिद्ध बस्तर को एक नया पहचान देने हेतु बस्तर में तैनात पुलिस एवं सुरक्षा बल द्वारा समर्पित होकर कार्य कर रहे हैं।

Chat on What's Up
Hello , Nmaste