Header

August 1, 2021

पेगासस द्वारा राहुल गाँधी व जजों की फ़ोन हैकिंग है गंभीर अपराध, इस मामले में दोषियों को मिले जेल की सजा : राणा सुजीत सिंह

नई दिल्ली. स्टारलोकप्रवाह, पेगासस के द्वारा कांग्रेस नेता राहुल गांधी, देश के जज, मंत्री और पत्रकारों के फ़ोन हैक करने के ख़िलाफ़ दिल्ली में आज कांग्रेस नेताओं ने जोरदार विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान पूर्वांचल के कद्दावर नेता राणा सुजीत सिंह ने कहा कि हमारे देश में किसी की फ़ोन की हैकिंग निजता का मामला है. यह एक क्रिमिनल ओफेंस है और इसमे अपराधियों को जेल भेजा जाना चाहिए और कांग्रेस इसकी मांग भी करती है. उन्होंने बिना नाम लिए इस मामले के लिए देश के प्रधानमंत्री और गृह मंत्री पर हमला बोला और कहा कि बिना अंदर के सह के कोई दुसरा देश इतने बड़ी संख्या में फ़ोन की हैकिंग कर ही नहीं सकता है. इससे साफ़ स्पष्ट होता है कि इन सब के पीछे कौन है. इसलिए आज अगर ऐसे लोगों को जेल नहीं भेजा गया तो यह देश के आन्तरिक मामलों और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक होने वाला है.
गौरतलब है कि पेगासस सॉफ्टवेयर से पचास हज़ार लोगों की सूची है अभी तक एक हज़ार लोगों का नम्बर सत्यापित किया गया जिसमें देश के करीब 300 वेरिफाइड मोबाइल नंबरों की जासूसी का मामला सामने आया है . इनमें केंद्र सरकार के मंत्री, बड़े नेता और वकीलों के साथ ही मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के नाम भी शामिल हैं. इसमें कांग्रेस नेता राहुल गाँधी और देश के प्रमुख जजों का भी नाम शामिल है. जिसे राणा सुजीत सिंह ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. माना जाता है कि इस्राइली कंपनी एनएसओ ने यह सॉफ्टवेयर दुनिया की 36 सरकारों को बेचा, लेकिन उसने अपने ग्राहकों की पहचान उजागर नहीं की. इस लीक डाटाबेस को पेरिस के नॉन प्रॉफिट मीडिया ‘फॉरबिडेन स्टोरीज’ और ‘एम्नेस्टी इंटरनेशनल’ ने एक्सेस किया. उन्होंने ही यह डाटा अन्य मीडिया संस्थानों के साथ साझा किया. इस पड़ताल को ‘प्रोजेक्ट पिगासस’ नाम दिया गया.
राणा सुजीत सिंह ने ये भी कहा की राहुल गांधी जी का फ़ोन हैक करके सरकार ने ये साबित कर दिया की वो वाक़ई राहुल जी से डरते है और आगे और भी डरेंगे।

Chat on What's Up
Hello , Nmaste