Header

November 27, 2021

हरियाणा ने दिखाई कोविड-19 पर नियंत्रण के लिए नई राह…

टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट की कारगर रणनीति से ग्रामीण क्षेत्रों पर विशेष फोकस
चण्डीगढ़.स्टारलोकप्रवाह, हरियाणा देश में ऐसा पहला राज्य बन गया जिसने कोविड-19 की वैश्विक महामारी को ग्रामीण क्षेत्रों में नियंत्रित करने के लिए विशेष फोकस किया। ग्रामीण क्षेत्र में बसने वाली आबादी के स्वास्थ्य की सुरक्षा व कोविड-19 के संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए हरियाणा में हुए उल्लेखनीय कार्य को लेकर केंद्र ने भी देश के अन्य राज्यों को इसी प्रकार की कुशल रणनीति पर काम करने के लिए प्रेरित किया है।
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने न केवल स्वयं प्रतिदिन ग्रामीण क्षेत्रों में जारी स्वास्थ्य संबंधी कार्यों की मॉनीटरिंग की बल्कि वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों को भी फील्ड में भेजा। जिन गांवों में कोविड-19 संक्रमण के मामले अधिक थे वहां पर विलेज आइसोलेशन सेंटर बनाए गए और हर जिला में उपायुक्त ने स्वयं इन सेंटर्स पर उपलब्ध सुविधाओं का मौके पर निरीक्षण किया।
हरियाणा सरकार ने कम समय में ग्रामीण क्षेत्र की आबादी के एक बड़े हिस्से की स्क्रीनिंग करते हुए सभी आवश्यक कदम उठाए जिससे कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोका जा सका। हरियाणा सरकार ने टेस्ट, ट्रेक व ट्रीट की रणनीति पर गंभीरता से कार्य किया जिसके चलते आगामी दो दिनों के अंदर ग्रामीण आबादी के स्वास्थ्य जांच का कार्य पूरा कर लिया जाएगा।
एक लाख से अधिक के हुए टेस्ट
कोविड-19 संक्रमण की चेन को तोडऩे के लिए सबसे प्रमुख कार्य टेस्टिंग का होता है। हरियाणा ग्रामीण स्वास्थ्य जांच योजना के तहत हरियाणा में एक लाख सात हजार 852 (90,474 रैपिड एंटीजन टेस्ट व 17,378 आरटी-पीसीआर टेस्ट)लोगों के सेंपल लिए गए। जिनमें 3781 मरीजों की रिपोर्ट पॉजीटिव मिली। गांव-गांव पर समय पर टेस्ट होने से कोरोना संक्रमित मरीजों की शीघ्रता से पहचान हुई और उन्हें परिवार के अन्य सदस्यों से अलग आइसोलेट करते हुए कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सका।
ट्रैकिंग से सवा करोड़ लोगों की हुई जांच
ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 नियंत्रण के लिए टेस्टिंग के बाद दूसरा प्रमुख कार्य ट्रैकिंग का रहा। स्वास्थ्य कर्मियों ने दिन रात घर-घर जाकर लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। इन टीमों ने मिशन मोड पर काम करते हुए 15 मई से आज तक 25 लाख 49 हजार 464 घरों में पहुंच कर करीब सवा करोड़ लोगों के स्वास्थ्य की जांच की। इतना हीं नहीं डोर टू डोर स्क्रीनिंग से खांसी-जुकाम-बुखार के 91,439 मरीजों की पहचान हुई और उन्हें भी समय पर उपचार दिया जा सका।
समय पर ट्रीटमेंट से पॉजीटिविटी रेट में आया सुधार
हरियाणा सरकार के इस महत्वाकांक्षी कार्यक्रम का सबसे चुनौतीपूर्ण कार्य ग्रामीण स्तर पर आवश्यक संसाधन जुटाना रहा लेकिन हरियाणा के मुख्यमंत्री व उनकी टीम ने इसे चुनौती के तौर पर लेते हुए यह कार्य आसान कर दिया। गांवों में स्थित पीएचसी-सीएचसी में आक्सीजन बेड, वेंटीलेटर व आवश्यक दवाओं में बढ़ोतरी बल्कि ग्राम स्तर पर 1746 विलेज आइसोलेशन सेंटर खोल दिए। जिनमें आक्सीजन बेड व अन्य आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराए गए। इन सेंटर में 21399 बेड कोविड मरीजों के लिए उपलब्ध है। इतना हीं होम आइसोलेट मरीजों को आक्सीमीटर, थर्मामीटर सहित 15 अलग-अलग आइटम युक्त किट भी नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही है। राज्य में अब तक स्वास्थ्य विभाग द्वारा 24,550 मरीजों को यह किट दी जा चुकी है। हरियाणा में टेस्ट-ट्रैक-ट्रीट की रणनीति बेहद कारगर साबित हुई है। कोविड-19 के सैंपल की पॉजिटिविटी दर चार फीसदी से भी घटकर 3.47 प्रतिशत रह गई है।

Chat on What's Up
Hello , Nmaste