Header

November 27, 2021

योगी को पंजाब के मामलों से दूर रहने की कैप्टन अमरिंदर ने दी सलाह

चंडीगढ़. स्टारलोकप्रवाह, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने शनिवार को योगी आदित्यनाथ द्वारा पंजाब में मलेरकोटला को 23वां जि़ला घोषित करने पर किए गए भडक़ाऊ ट्वीट की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसको भाजपा की विभाजनकारी नीति के हिस्से के तौर पर शांतमयी राज्य में सांप्रदायिक बखेड़ा खड़ा करने की शर्मनाक कोशिश करार दिया। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार द्वारा उत्साहित की जा रही विभाजनकारी नीतियों के मुकाबले पंजाब में सांप्रदायिक सद्भावना की बात कहते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि योगी आदित्यनाथ को पंजाब के मामलों से दूर ही रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब में उत्तर प्रदेश की भाजपा की विभाजनकारी और विनाशकारी सरकार की अपेक्षा कहीं बढिय़ा माहौल है, जबकि उत्तर प्रदेश में पिछले चार सालों से अधिक समय से भाजपा सरकार ने सांप्रदायिक विवादों को सक्रियता से आगे बढ़ाया है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के ट्वीट जिसमें मलेरकोटला को जि़ले का दर्जा देने को ‘कांग्रेस की विभाजनकारी नीति का प्रतीक’ बताया था, पर सख्त प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ने पूछा, िक वह (योगी आदित्यनाथ) क्या जानता है पंजाब के सिद्धांतों या मलेरकोटला के इतिहास के बारे में जिसका सिख धर्म और गुरू साहिबान के साथ रिश्ता हरेक पंजाबी जानता है। और वह भारतीय संविधान को क्या समझता है जिसे उत्तर प्रदेश में उसकी ही सरकार द्वारा रोज़ ही बेरहमी से कुचला जाता है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की टिप्पणी पर चुटकी लेते हुए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार और भाजपा के सांप्रदायिक नफऱत फैलाने के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए ऐसी टिप्पणियाँ सरासर बेतुकी और बेबुनियाद हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा ख़ासकर उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की विभाजनकारी नीतियों को सारी दुनिया जानती है। उत्तर प्रदेश में मुग़ल सराए का नाम पंडित दीन दयाल उपाध्याय नगर, अलाहबाद का नाम प्रयागराज और फैज़ाबाद का नाम अयोध्या बदलने समेत अलग-अलग शहरों के नाम बदलने की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने इस सबको योगी सरकार द्वारा इतिहास को फिर लिखने की कोशिश करार दिया, जिसको भारत के शान्ति प्रिय लोग कभी भी बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Chat on What's Up
Hello , Nmaste