Header

July 1, 2022

पड़ोसी मुल्कों से अपने रिश्तों को लेकर कितना संजीदा है पाक?

नई दिल्ली स्टारलोकप्रवाह, भारत के प्रति हमेशा आग उगलने वाला पड़ोसी पाकिस्तान अचानक अपने सुर में नर्माहट कैसे ले आया है। उसके इस बदले हुए सुर के पीछे की वजह क्या है? क्या वह अभी भी भारत को अपनी बहकी-बहकी बातों के जरिये झांसा देने का प्रयास कर रहा है या कुछ और है? फ़िलहाल हमारा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान कह रहा है कि वह अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध रखना चाहता है। इसलिए उसने भारत को शांति का पैगाम भेजा है। पाक पीएम इमरान खान, पाकिस्तान आर्मी के चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा के बाद अब पाकिस्तान के उच्चायुक्त ने भी भारत को लेकर बयान जारी किया है।
आफताब हसन खान ने कहा कि शांति के लिए, मुद्दों को विशेष रूप से जम्मू और कश्मीर में बातचीत से हल किया जाना चाहिए जो 70 वर्षों से चल रहा है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे संबंध रखना चाहता है और यह केवल शांति के जरिए संभव होगा और इसके लिए प्रबल होना चाहिए मुद्दों को बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए विशेष रूप से जम्मू और कश्मीर के लिए जो 70 सालों से चल रहा है।
गौरतलब हो कि कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत के साथ शांति की इच्छा जाहिर करते हुए कहा था कि दोनों देशों को अतीत को भूलकर अब आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने साफ किया कि पाकिस्तान की सेना अनसुलझे मुद्दों पर बातचीत को तैयार है। बाजवा से एक दिन पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी यही इच्छा जाहिर की थी। यदि इन बयानों पर गौर फरमाएं तो क्या लगता है कि भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में जो खटास है वह अब मिठास में बदलने वाली है? क्या पाकिस्तान सच में भारत के साथ अपने रिश्तों को सुधारना चाहता है या फिर इन बयानों के पीछे भी उसकी कोई चल है। फ़िलहाल यह तो आने वाले समय में पता चलेगा कि पड़ोसी पाक अपने पड़ोसी मुल्कों से रिश्तों को संजोने को लेकर कितना संजीदा है।

Chat on What's Up
Hello , Nmaste